वाराणसी के सतीश गणेश और असीम अरुण कानपुर के पहले पुलिस कमिश्नर बने

Satish-Ganesh-IPS

सतीश गणेश को वाराणसी का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है और असेम अरुण को कानपुर का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है। इसके अलावा, उत्तर प्रदेश सरकार ने कई IPS अधिकारियों का तबादला किया।

उत्तर प्रदेश में लखनऊ और गौतम बुद्धनगर के बाद, कानपुर और वाराणसी में कमिश्नरी प्रणाली लागू की गई है। A. सतीश गणेश को वाराणसी का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है और असेम अरुण को कानपुर का पहला पुलिस कमिश्नर बनाया गया है। इसके अलावा, उत्तर प्रदेश सरकार ने कई IPS अधिकारियों का तबादला किया।

एसएसपी वाराणसी अमित पाठक को गाजियाबाद भेजा गया है। आईपीएस अधिकारी अखिलेश कुमार मीणा और अनिल सिंह को वाराणसी, डीआईजी रेलवे पुष्पांजलि गौतम बुद्ध नगर, मनोज कुमार और आकाश कुलहरि को कानपुर में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त बनाया गया है, पीयूष मोर्डिया को लखनऊ में संयुक्त पुलिस आयुक्त बनाया गया है।

Satish-Ganesh-IPS

इसके अलावा, संयुक्त आयुक्त लखनऊ नवीन अरोड़ा को आगरा रेंज का आईजी, रमित शर्मा को बरेली रेंज और एसके भगत को वाराणसी रेंज का आईजी बनाया गया है। वहीं, जे। रविन्द्र गौड़ को मिर्जापुर, दीपक कुमार को अलीगढ़ का डीआईजी, जोगेंद्र कुमार को शलभ माथुर, मुरादाबाद का डीआईजी बनाया गया है।

किरीट कुमार राठौर से पीलीभीत, एटीएस के बबलू कुमार, मुनिराज जी से आगरा, कलानिधि नैथानी से अलीगढ़, रोहन पी कनय से झाँसी, दिनेश कुमार पी से गोरखपुर, सचिन्द्र पटेल से कुशीनगर, संतोष सिंह से गोंडा, शैलेश पांडे से अयोध्या, बृज कुमार। सिंह को इटावा, आकाश तोमर को प्रतापगढ़ और सुजाता बहराइच का एसएसपी बनाया गया।

ये बदलाव कमीशन प्रणाली के लागू होने के कारण होगा

Also Read-  सीबीआई ने अनिल देशमुख के खिलाफ एफआईआर दर्ज की, संजय राउत ने कहा यह एजेंडा है

कानपुर और वाराणसी में आयुक्तालय प्रणाली के लागू होने के बाद, अब पुलिस अधिकारियों को संयुक्त आयुक्त, संयुक्त आयुक्त, उपायुक्त, सहायक आयुक्त के पद दिए जाएंगे। दरअसल, इस नई व्यवस्था के लागू होने के बाद अब पुलिस अधिकारी को जिलाधिकारी और कार्यकारी मजिस्ट्रेट के अधिकार मिल जाएंगे।