पढ़िए मंगलवार सुबह की 5 सबसे बड़ी खबरें

Newswrap

ऑक्सीजन एक्सप्रेस चार कंटेनरों के साथ दिल्ली पहुंच गई है। हरिद्वार कुंभ के अंतिम शाही स्नान में कोरोना का डर है। अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को कोरोना मिलता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने भारत में कोरोना वायरस की बिगड़ती स्थिति पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि स्थिति इतनी नाजुक है कि दिल टूट गया है। दूसरी ओर, ऑक्सीजन एक्सप्रेस चार कंटेनरों के साथ दिल्ली पहुंच गई है। हरिद्वार कुंभ के अंतिम शाही स्नान में कोरोना का डर है। अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को कोरोना मिलता है।

भारत में कोविद की हालत कल्पना से भी बदतर है, दिल तोड़ने वाला: डब्ल्यूएचओ प्रमुख

भारत में कोरोना संकट गहराता जा रहा है। स्थिति इतनी गंभीर है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने भी दुख व्यक्त किया। भारत, जो पूरी दुनिया में कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति कर रहा था, आज सबसे खराब स्थिति में है। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ। टेड्रोस अदनोम घेब्रेस ने कहा कि भारत में कोरोना संकट अत्यंत दर्दनाक है। यह दिल टूटने से ज्यादा है। हम ऐसी स्थिति में भारत का समर्थन करने के लिए तैयार हैं।

कंटेनर में ऑक्सीजन एक्सप्रेस, 1736 बेड बचे हैं

देश में इस समय कोरोना वायरस के संकट की आंधी चल रही है। इस तबाही के बीच दिल्ली में सबसे ज्यादा असर देखने को मिल रहा है। दिल्ली वर्तमान में हर दिन हजारों मामलों का सामना कर रही है, इसलिए राजधानी में मौतों की संख्या हर किसी की चिंता बढ़ा रही है। भले ही पिछले दिनों दिल्ली में कोरोना के मामले कम हुए हों,

India-BreakingNews

लेकिन रविवार को किए गए कम परीक्षण का असर भी देखा जा सकता है। लेकिन इसके बावजूद, मौतों की संख्या और सकारात्मकता दर चिंता बढ़ाने वाली हैं। दिल्ली में सकारात्मकता दर पिछले दिन 35 प्रतिशत से अधिक थी।

हरिद्वार कुंभ: अंतिम शाही स्नान में कोरोना का डर, कम श्रद्धालु, प्रतीकात्मक स्नान

कोरोना का डर हरिद्वार कुंभ के अंतिम शाही स्नान में देखा जाता है। शाही स्नान के बावजूद घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ सामान्य से कम देखी जाती है। कुंभ के अंतिम शाही स्नान और चैत्र पूर्णिमा के स्नान के बाद भी, यह स्पष्ट है कि घाट पर इतनी कम भीड़ के कारण, कोरोना आस्था पर भारी है। बता दें कि चैत्र पूर्णिमा का सनातन धर्म में विशेष महत्व है।

चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को चैत्र पूर्णिमा कहा जाता है। चैत्र हिंदी वर्ष का पहला महीना है, इसलिए इसे पहला चंद्र मास भी कहा जाता है। चैत्र पूर्णिमा को भाग्यशाली पूर्णिमा भी माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन व्रत करने से न केवल मनोकामना की पूर्ति होती है बल्कि भगवान की असीम कृपा भी प्राप्त होती है।