Latest Posts

पीएम मोदी ने अपने मन की बात में कहा, कोरोना हमारे धैर्य की परीक्षा ले रहा है, हमे हिम्मत नही हारनी हैं

पीएम मोदी की मन की बात 2.0 का यह 23 वां एपिसोड है। पीएम मोदी कोरोना पर बात कर रहे हैं। पीएम मोदी इस दौरान कई डॉक्टरों से भी बात कर रहे हैं।

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज ‘मन की बात’ कर रहे हैं। यह मन की बात 2.0 का 23 वां और मन की बात का 76 वां संस्करण है। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर ने देश को हिला दिया है।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस देश के लोगों के धैर्य और पीड़ा का परीक्षण कर रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि कई लोगों ने अपनों को खोया है। यह नए सिरे से लड़ने का समय है। पीएम मोदी भी राज्य सरकारों की जिम्मेदारियों को पूरा करने में लगे हैं। पूरी ताकत से कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है।

पीएम मोदी ने डॉक्टर से बात की

इस दौरान पीएम मोदी ने मुंबई के डॉ। शशांक से बात की। डॉ। शशांक ने कहा कि लोग कोरोना का इलाज देर से शुरू करते हैं। चलिए मानते हैं कि फोन पर क्या आ रहा है। डॉ। शशांक ने कहा कि भारत में सबसे अच्छे उपचार प्रोटोकॉल मौजूद हैं और लोग ठीक हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के म्यूटेंट के साथ घबराने की जरूरत नहीं है। लोग तेजी से ठीक हो रहे हैं क्योंकि यह कोरोना फैल रहा है।

Narendra-Modi-India-Prime-Minister

केवल विशेषज्ञों की सुनें – पीएम मोदी

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि केवल विशेषज्ञों की बात सुनें। डॉक्टरों की सलाह का पालन करें और आवश्यक उपाय अपनाएं। पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि हर कोई टीका के महत्व के बारे में जानता है। टीके से संबंधित अफवाहों पर ध्यान न दें। सभी योग्य लोग टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीकाकरण करवाते हैं।

Also Read-  चीन मे तेजी से फैल रहा कोरोना का डेल्टा वेरिएंट वायरस, चीन मे कोरोना संक्रमण के 75 नए मामले आए सामने

पीएम ने बहन भावना ध्रुव से की बात

पीएम मोदी ने रायपुर के एक अस्पताल के सिस्टर भवन ध्रुव से बात की। ध्रुव ने बताया कि कोविद की ड्यूटी लेने के बाद मेरा परिवार डर गया था। मैं कोविद मरीजों से मिला। वे लोग कोरोना से ज्यादा घबराए हुए थे। उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह आगे क्या करे। हमने उन्हें अच्छा माहौल दिया। ध्रुव ने कहा कि पीपीई किट पहनने के बाद बहुत समस्या है।

पीएम मोदी ने कहा था कि मन की बात के 75 वें संस्करण पर लोगों ने बहुत सारी बधाई दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसके लिए सभी श्रोताओं का धन्यवाद भी किया। इस कड़ी में, प्रधान मंत्री मोदी ने ताली-थली पर भी चर्चा की। मोदी ने कहा था,

पिछले साल यह मार्च का महीना था। देश ने पहली बार सार्वजनिक कर्फ्यू शब्द सुना था। जनता कर्फ्यू पूरी दुनिया के लिए आश्चर्य की बात बन गई थी। यह अनुशासन, पीढ़ियों का एक अभूतपूर्व उदाहरण था। आओ इस एक बात पर गर्व करेंगे। ”

आपको बता दें कि कल पंचायती राज दिवस के एक कार्यक्रम में बोलते हुए, प्रधान मंत्री ने देश में कोरोना की स्थितियों पर अपने विचार दिए, प्रधान मंत्री ने कहा, “जब हम एक साल पहले पंचायती राज दिवस के लिए मिले थे, तब कोरोना से देश आया था। प्रतिस्पर्धा कर रहा था। फिर मैंने आप सभी से आग्रह किया कि कोरोना को गाँव तक पहुँचने से रोकने में अपनी भूमिका निभाएँ।

आप सभी ने बड़ी कुशलता से कोरोना को गाँवों तक पहुँचने से न केवल रोका, बल्कि एक बहुत बड़ी भूमिका भी निभाई। गाँव में जागरूकता फैलाने के लिए। इस साल, हमारे सामने यह चुनौती पहले से कहीं अधिक है कि संक्रमण को किसी भी हालत में गाँवों तक नहीं पहुँचने देना चाहिए, इसे रोकना होगा।

Also Read-  कोरोना युग के दौरान अस्पताल में कोई बिस्तर नहीं है, क्या सोनू सूद अस्पताल खोलेंगे ट्वीट कर किया इशारा

Latest Posts

spot_imgspot_img

Don't Miss