एयरफोर्स ने उठाई ज़िम्मेदारी कंटेनरों पहुचाया पन्नागढ़-दिल्ली, जर्मनी से भी एयरलिफ्ट की तैयारी

Airforce-Oxygen-Cilender

देश के कई हिस्सों में चल रहे ऑक्सीजन संकट के बीच अब वायु सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। वायु सेना के विमान आपूर्ति मिशन को तेज करने के लिए ऑक्सीजन के कंटेनरों को विभिन्न भागों में पहुंचा रहे हैं।

वर्तमान में देश कोरोना की तबाही से जूझ रहा है। हर जगह बढ़ते मामलों, मौतों की खबरें हैं। इस बीच, सबसे बड़ा संकट ऑक्सीजन का है, क्योंकि कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी है, तो आपूर्ति में समस्या है। इस तबाही के बीच अब वायुसेना ने मोर्चा संभाल लिया है। एयरफोर्स अब ऑक्सीजन के कंटेनरों को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में लगी हुई है।

भारतीय वायु सेना के दो C17 विमानों ने दो बड़े ऑक्सीजन कंटेनरों, IL 76 को खाली कंटेनर पनागढ़, बंगाल ले गए। इन तीन कंटेनरों को ऑक्सीजन से भरकर दिल्ली लाया जाएगा। वायु सेना द्वारा ऑक्सीजन की आपूर्ति को पूरा करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में इस तरह का ऑपरेशन किया जाएगा।

Airforce-Oxygen-Cilender

इतना ही नहीं, वायु सेना अब जर्मनी से 23 मोबाइल ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों का भी एयरलिफ्ट करेगी। ताकि इन्हें अस्पतालों के पास स्थापित किया जा सके और ऑक्सीजन की आपूर्ति सुचारू रूप से चलती रहे।

इससे पहले, वायु सेना ने लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश के लेह में कोविद परीक्षण सेटअप पहुंचाया, ताकि परीक्षण प्रक्रिया में कोई बाधा न हो। यह ध्यान देने योग्य है कि देश के कई राज्यों के अस्पताल वर्तमान में ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं।

केंद्र सरकार का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी नहीं है, लेकिन आपूर्ति में कई समस्याएं हैं। कई जगहों पर सड़क मार्ग से ऑक्सीजन पहुंच रही है, इसलिए समय लग रहा है। यही कारण है कि दिल्ली, महाराष्ट्र, यूपी, मध्य प्रदेश, कर्नाटक सहित दर्जनों राज्यों में ऑक्सीजन में बहुत अधिक रोष है।

Also Read-  दिल्ली: बरारी के निरंकारी ग्राउंड में प्याज की खेती करने वाले किसानों के साथ धरना के साथ खेती