Home news बंगाल से जुड़ी ये तीन घटनाएं किस दिशा में हैं, ममता सरकार...

बंगाल से जुड़ी ये तीन घटनाएं किस दिशा में हैं, ममता सरकार पर कसा जाएगा शिकंजा

NRC-CAA-1

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले घटनाक्रम तेज हो गया है। भाजपा और ममता बनर्जी के बीच टकराव की स्थिति पहले से ही थी, लेकिन राज्य में कई भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्याओं के बाद स्थिति और खराब हो गई। हाल ही में, जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बंगाल का दौरा किया, तो टीएमसी कार्यकर्ताओं पर उनके काफिले पर पथराव करने का भी आरोप लगाया गया था। हालांकि, ममता बनर्जी ने भाजपा पर ही विपरीत आरोप लगाया। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) लगातार यह आरोप लगाती रही है कि भाजपा बंगाल में अपने राजनीतिक आधार को खोजने के लिए कई तरह के हथकंडे अपना रही है, जबकि भाजपा का कहना है कि ममता के उन्मूलन के आधार पर टीएमसी इस तरह के कदम उठा रही है। पश्चिम बंगाल से संबंधित तीन बड़े घटनाक्रम हुए हैं या होने वाले हैं, जिससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि आने वाले समय में ममता बनर्जी और उनकी सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। जानिए कौन सी हैं वो तीन घटनाएं

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर सेवा करने के लिए शनिवार को पश्चिम बंगाल में सेवारत भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के तीन अधिकारियों को तलब किया है। यह कार्रवाई भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के राज्य और पार्टी पर काफिले पर हमला करने और सुरक्षा में लापरवाही का आरोप लगाते हुए आती है। अधिकारियों ने कहा कि तीनों अधिकारी भाजपा अध्यक्ष की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार थे। माना जाता है कि गृह मंत्रालय के इस कदम से दो दिन पहले नड्डा के काफिले पर हुए हमले में पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार और केंद्र की भाजपा नीत सरकार के बीच तकरार बढ़ेगी। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बुलाए गए तीनों आईपीएस अधिकारी पश्चिम बंगाल कैडर के हैं। गृह मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि यह निर्णय अखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों पर लागू नियमों के तहत लिया गया है।

गृह मंत्री अमित शाह 19 दिसंबर को दो दिनों के लिए बंगाल के दौरे पर जाने वाले हैं। शाह का दौरा इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि पिछले वर्षों में शाह और ममता बनर्जी के बीच संबंध अच्छे नहीं रहे हैं। दोनों एक दूसरे पर हमला करते रहे हैं। शाह ने रणनीति बनाने के लिए पिछले महीने 4 नवंबर को बंगाल का दौरा किया। उन्होंने पार्टी के कुछ कार्यक्रमों में भी भाग लिया। पार्टी ने कहा था कि शाह और नड्डा हर महीने बंगाल जाएंगे। राज्य में भाजपा के महासचिव सयंतन बसु ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह 19 और 20 दिसंबर को बंगाल में होंगे। साथ ही, गृह मंत्री के अलावा बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी ममता बनर्जी से उखड़े हुए हैं। वह ममता बनर्जी को लगातार चेतावनी देते रहे हैं। ममता बनर्जी की इस टिप्पणी की निंदा करते हुए कि भाजपा को लगातार बाहरी पार्टी कहा जाता था, धनकर ने उन्हें राष्ट्रीय ताने-बाने से दूर रहने वाली राजनीति से दूर रहने को कहा। इसके साथ ही, धनखड़ ने ममता बनर्जी को चेतावनी दी थी कि उन्हें संविधान का पालन करना होगा।

17 दिसंबर को उप चुनाव आयुक्त सुदीप जैन पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे। चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा, “उप चुनाव आयुक्त 17 दिसंबर से दो दिवसीय यात्रा पर पश्चिम बंगाल में होंगे।” हालाँकि, चुनाव आयोग के अधिकारी का बंगाल दौरा राजनीति से नहीं बल्कि विधानसभा चुनाव से जुड़ा है। लेकिन, यह कहा जा रहा है कि चुनाव आयोग बंगाल के चुनाव के लिए कोई ढील नहीं देने वाला है। आयोग अपनी तैयारियों को जल्द से जल्द पूरा करना चाहता है। अगर सूत्रों की मानें तो उप चुनाव आयुक्त अपनी यात्रा के दौरान राज्य चुनाव आयोग के अधिकारियों और डीएम से मिलेंगे और चुनावी तैयारियों का जायजा लेंगे। वहीं, 14 दिसंबर को पश्चिम बंगाल के चुनाव आयोग की जिलाधिकारियों के साथ आंतरिक बैठक होगी। अगले साल पश्चिम बंगाल राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं।

Exit mobile version