Latest Posts

दिल्ली: बरारी के निरंकारी ग्राउंड में प्याज की खेती करने वाले किसानों के साथ धरना के साथ खेती

कृषि कानूनों के मुद्दे पर आंदोलन करने वाले किसानों को अब एक महीने से अधिक समय हो गया है। पंजाब, हरियाणा सहित विभिन्न राज्यों के किसान दिल्ली की सीमाओं पर फंस गए हैं

आंदोलनकारी किसानों का कहना है कि हम लंबे समय से यहां रह रहे हैं और हमारे पास लंबे समय तक रहने की योजना है, जिस स्थिति में हम इस जमीन में प्याज बो रहे हैं। वे जल्द ही तैयार हो जाएंगे, ताकि हम उनका उपयोग यहां कर सकें।

आपको बता दें कि पिछले एक महीने से किसान दिल्ली की सीमाओं पर खड़े हैं। ये संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। ऐसे में यहां बैठे हजारों किसानों के लिए सुबह और शाम को लंगर भी बनाया जा रहा है, किसान आपसी सहयोग से सभी के लिए लंगर की व्यवस्था कर रहे हैं। मंचन करने वाले किसान ही नहीं, बल्कि वहां पहुंचने वाले हर व्यक्ति को लंगर डाला जा रहा है।

kisan-andolan

गौरतलब है कि कृषि कानून के मुद्दे पर किसानों और सरकार के बीच 6 दौर की बातचीत हुई है। सरकार कानूनों में कुछ संशोधन करने के लिए सहमत है, जबकि किसान कह रहे हैं कि तीनों कानूनों को वापस किया जाना चाहिए। किसानों का कहना है कि उन्होंने कभी इस तरह के कानूनों की मांग नहीं की, इस मामले में वे उनके उपयोग के नहीं हैं और नुकसान का कारण बनने वाले हैं।

जारी बातचीत अब और भी आगे बढ़ रही है। मंगलवार को एक बार फिर सरकार और किसानों के बीच विज्ञान भवन में बातचीत हो सकती है, जिसमें कुछ रास्ता निकलने की उम्मीद है।

Also Read-  राहुल के बाद चुनाव प्रचार पर ममता की बड़ी घोषणा, TMC सांसद ने रैली के बारे में यह बात कही

पिछले एक महीने से चल रहे किसान आंदोलन में, अब तक आंदोलनकारियों ने भारत बंद, उपवास, टोल फ्री, थाली बजाने जैसे तरीके अपनाए हैं और किसान पीछे हटने का नाम नहीं ले रहे हैं

Latest Posts

spot_imgspot_img

Don't Miss