Latest Posts

आज 9 महीनो के बाद खुला भगवान जगन्नाथ का मंदिर, श्रद्धालु ने की पुजा,

25 दिसंबर से लेकर साल की आखिरी तारीख यानी 31 दिसंबर तक पुरी के स्थानीय लोग भगवान जगन्नाथ के दर्शन कर सकेंगे। इसके लिए वार्ड के हिसाब से दिन तय किए गए हैं। फिर अगले दो दिनों के पहले दो दिन यानी 2021 पर मंदिर के द्वार श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे।

कोरोना वायरस महामारी के कारण मार्च से देश में लॉकडाउन लागू किया गया था। तब उद्योग-व्यापार और रेल-बस के पहिए रुक गए थे। धार्मिक स्थलों पर भी ताले लटके हुए थे। जब देश में अनलॉक शुरू हुआ, तो मंदिर और अन्य धार्मिक स्थानों को कई क्षेत्रों में खोलने की अनुमति दी गई थी, लेकिन ओडिशा में पुरी के जगन्नाथ मंदिर अभी भी बंद थे। अब जगन्नाथ मंदिर भी खुल गया है।

तालाबंदी की शुरुआत से अब तक केवल पुजारियों को ही मंदिर में प्रवेश मिल रहा था और यह प्रक्रिया 24 दिसंबर तक जारी रही। हालांकि, एक सप्ताह के बाद से, मंदिर प्रबंधन समिति और स्थानीय प्रशासन ने मंदिर के पुजारियों के परिवार के सदस्यों को पूर्ण प्रोटोकॉल के साथ मंदिर में भगवान जगन्नाथ के दर्शन करने की अनुमति दी है।

मंदिर के अधिकारी इपीत प्रतिहारी ने बताया है कि 25 दिसंबर से लेकर साल की आखिरी तारीख तक यानी 31 दिसंबर तक पुरी के स्थानीय लोग भगवान जगन्नाथ के दर्शन कर सकेंगे। इसके लिए वार्ड के हिसाब से दिन तय किए गए हैं। फिर अगले दो दिनों के पहले दो दिन यानी 2021 पर मंदिर के द्वार श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे।

jagannath-temple-puri-odisha

प्रतिहारी के अनुसार, जगन्नाथ पुरी के नागरिकों को भी कोरोना नकारात्मक का प्रमाण पत्र लाना होगा। इसके साथ, कोरोना वायरस के सभी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना अनिवार्य होगा। सैनिटाइजेशन भी होगा और मास्क और दस्ताने पहनना अनिवार्य होगा। सामाजिक भेद से संबंधित प्रावधानों का भी पालन करना होगा। साथ ही, श्रद्धालु गरुड़ स्तंभ या किसी दीवार, दरवाजे, सीढ़ी, रेलिंग आदि को छू भी नहीं पाएंगे।

Also Read-  गणेश चतुर्थी पर कोरोना महामारी का असर, दिल्ली में सार्वजनिक कार्यक्रमों पर दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने लगाई रोक

वर्ष 2021 के पहले दो दिन, यानी 1 और 2 जनवरी को, जगन्नाथ मंदिर के दरवाजे बंद रहेंगे। इन दो दिनों में केवल पंडों और पुजारियों को ही भगवान जगन्नाथ के मंदिर में प्रवेश करने में मदद मिलेगी। मंदिर 3 जनवरी से आम भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा। भगवान जगन्नाथ तक पहुंचने वाले भक्तों को एक कोरोना नेगेटिव सर्टिफिकेट और एक दर्शन पर्ची साथ ले जानी होगी। मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं पर नजर रखने के लिए विस्तृत व्यवस्था की है।

इप्सित प्रतिहारी ने बताया कि भक्तों को मंदिर से लगभग एक किलोमीटर दूर पार्किंग स्थल से पैदल आना होगा। सुरक्षा के लिए मंदिर में त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। मंदिर के सिंह द्वार से पहले उन्हें भौतिक और सामाजिक दूरी के साथ इलेक्ट्रॉनिक रूप से खोजा जाएगा। इसके बाद श्रद्धालु इलेक्ट्रॉनिक चैक गेट से गुजरते हुए जगन्नाथ मंदिर के विशाल प्रांगण में प्रवेश करेंगे। उनका दर्शन करके, वे निर्धारित द्वार से मंदिर से बाहर निकलेंगे।

Latest Posts

spot_imgspot_img

Don't Miss