Latest Posts

Oppo के दांव से बढ़ी Apple की मुश्किलें, दुनिया पर दबदबे के लिए चुना Huawei की राह

एक जमाने में चीन की कंपनी हुवावे का ग्लोबल स्मार्टफोन मार्केट में दबदबा हुआ करता था। लेकिन समय बदल गया और हुआवेई वैश्विक स्मार्टफोन कारोबार से बाहर हो गई। लेकिन अब हुवावे की राह चीनी कंपनी ओप्पो ग्लोबल स्मार्टफोन मार्केट में चल रही है। इससे दिग्गज स्मार्टफोन कंपनी एपल की चिंता बढ़ सकती है, क्योंकि एपल को ओप्पो से कड़ी टक्कर मिल रही है। हाल ही में, ओप्पो ने दुनिया भर में उच्चतम स्मार्टफोन शिपमेंट के मामले में ऐप्पल से नंबर 2 स्थान छीन लिया है।

Oppo का बड़ा मार्केट शेयर

मार्केट रिसर्च फर्म काउंटरपॉइंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ओप्पो ने अप्रैल और मई के महीनों के दौरान वैश्विक स्मार्टफोन शिपमेंट में नंबर दो स्थान पर कब्जा करने के लिए ऐप्पल को पीछे छोड़ दिया है। इस तरह Oppo दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्मार्टफोन कंपनी बन गई है। वहीं सैमसंग एक बार फिर टॉप पर पहुंचने में कामयाब रही है। जबकि एप्पल तीसरे स्थान पर रही। काउंटरप्वाइंट रिसर्च फर्म के सीनियर एनालिस्ट जेने पार्क के मुताबिक, ओप्पो कंपनी हुवावे की तरह चीन की सबसे ताकतवर स्मार्टफोन कंपनी बन सकती है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि एपल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। रिपोर्ट की माने तो हुवावे कंपनी के बंद होने से सबसे ज्यादा फायदा Oppo और Xiaomi को हुआ है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि एपल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही में किसकी बाजार हिस्सेदारी थी?

Samsung – 19 फीसदी

Oppo – 16 फीसदी

Apple – 15 फीसदी

Also Read-  Reliance Jio 90GB तक Data के इन प्लान्स, 129 रुपये का सबसे सस्ता प्लान

Xiaomi – 14 फीसदी

Huawei की टॉप कंपनी बनने से लेकर बंद होने तक की कहानी

आपको बता दें कि कभी प्रीमियम स्मार्टफोन के मामले में हुवावे अमेरिकी कंपनी एपल को कड़ी टक्कर देती थी। 2019 की शुरुआत में हुवावे दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन गई थी। जबकि साल 2019 के अंत तक हुवावे ने सैमसंग से नंबर वन का ताज छीन लिया और अपने नाम कर लिया। हालांकि मई 2019 में तत्कालीन अमेरिकी प्रधानमंत्री डोनाल्ड ट्रंप ने हुआवेरी पर अन्य चीनी कंपनियों की जासूसी करने का आरोप लगाया था। इसके बाद Google, Qualcomm और Intel जैसी कंपनियों ने Huawei के साथ काम करना बंद कर दिया। ऐसे में Huawei Google के स्वामित्व वाले Android स्मार्टफोन को शिप नहीं कर सका। इसका असर यह हुआ कि साल 2020 के अंत तक हुआवेरी बंद होने की कगार पर पहुंच गया और साल 2021 में कंपनी को अपना कारोबार बेचना पड़ा।

हालांकि, ओप्पो विश्व बाजार में हुवावे की खाली जगह को तेजी से भर रहा है। ओप्पो की अपनी बहन कंपनी रियलमी और वनप्लस के साथ दुनिया भर में बड़ी बाजार हिस्सेदारी है। ओप्पो के मार्केट शेयर की बात करें तो फरवरी से मार्च के दौरान ओप्पो की मार्केट शेयर करीब 16 फीसदी रही है। इसमें ओप्पो की हिस्सेदारी करीब 10 फीसदी रही है। जबकि वनप्लस के पास 1 फीसदी और रियलमी के पास 5 फीसदी है। इस तरह Oppo ने अप्रैल में ग्लोबल स्मार्टफोन सेल में Apple और Xiaomi जैसी कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है।

Latest Posts

spot_imgspot_img

Don't Miss