Home India Politics पीएम मोदी ने कोयंबटूर में गरजते हुए कहा- हम नहीं चाहते कि...

पीएम मोदी ने कोयंबटूर में गरजते हुए कहा- हम नहीं चाहते कि हमारे किसान को बिचौलियों के कारण घुटन महसूस हो

India-Pm-Narendra-Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कोयंबटूर में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार सभी वर्गों को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है। मैं अभी एक कार्यक्रम से आया हूं जहां विभिन्न क्षेत्रों के लिए कई परियोजनाएं रखी गई हैं। इससे तमिलनाडु के लोगों को आसानी से रहने और सम्मान के साथ जीने में मदद मिलेगी।

पीएम मोदी ने कहा कि हम भारत के किसानों के लिए काम करके गर्व महसूस कर रहे हैं। ई-एनएएम से प्रभावी फसल बीमा योजना के लिए किसान क्रेडिट कार्ड से लेकर स्वाले हेल्थ कार्ड तक हम कृषि क्षेत्र में एक बदलाव लाना चाहते हैं। हम नहीं चाहते कि हमारा किसान किसी पर निर्भर रहे। हम नहीं चाहते कि हमारे किसान बिचौलियों के कारण घुटन महसूस करें। पीएम किसान योजना को कल ही दो साल पूरे हुए हैं। इस योजना से 11 करोड़ किसान लाभान्वित हुए हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आज देश दो तरह की राजनीति देख रहा है। एक विपक्ष की राजनीति जो कुशासन और भ्रष्टाचार से ग्रस्त है। जबकि एनडीए शासन और लोगों के लिए करुणा के साथ राजनीति करता है। दो तरीके बहुत अलग हैं। व्यक्तिगत लाभ विपक्ष के लिए सब कुछ है। द्रमुक और कांग्रेस की बैठकें भ्रष्टाचार के हैकथॉन की तरह हैं। उनके नेता बैठते हैं और विचार-विमर्श करते हैं कि कैसे लूट करना है। नए तरीके सुझाने वाले नेताओं में पद और मंत्रालय दिए गए हैं। विपक्षी राजनीति उत्पीड़न पर आधारित है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरा तमिलनाडु जानता है कि द्रमुक ने अम्मा जयललिताजी के साथ कैसा व्यवहार किया। इससे महिलाओं के प्रति उनके रवैये का पता चलता है। दुख की बात है कि जयललिताजी को परेशान करने के लिए डीएमके और कांग्रेस के नेताओं को पुरस्कृत किया गया। डीएमके ने पूरे तमिलनाडु की पार्टी कहलाने का अधिकार खो दिया है। राज्य के लोगों ने उसे खारिज कर दिया है। आखिरी बार उन्होंने अपने दम पर 25 साल पहले पूर्ण बहुमत हासिल किया था।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस और द्रमुक दोनों दल आंतरिक अंतर्विरोधों से पीड़ित हैं। दोनों पक्षों ने पहले अपने परिवारों को लॉन्च करने की कोशिश की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। वहां लगातार पारिवारिक ड्रामा चल रहा है। वे तमिलनाडु में सुशासन प्रदान नहीं कर सकते। एनडीए क्षेत्रीय आकांक्षाओं और राष्ट्रीय प्रगति की दिशा में काम कर रहा है। आज शुरू किए गए विकास कार्यों को इस दृष्टिकोण से देखा जाना चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा कि मैं कोयम्बटूर के लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) की सराहना करना चाहता हूं। भारत सरकार ने MSMEs की मदद के लिए कई कदम उठाए हैं। केंद्र सरकार ने MSME क्षेत्र के लिए कई कदम उठाए हैं। तमिलनाडु में 3.5 लाख MSMEs के लिए लगभग 1,4,000 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। एक उदाहरण ECLGS है। कोरोना के बाद से यह योजना एमएसएमई के लिए महत्वपूर्ण है। तमिलनाडु में MSMEs को इसके तहत बहुत लाभ हुआ है।

Exit mobile version